ALL political social Entertainment health tourism crime religious Sports National Other State
निर्भया के दोषियों की आखिरी चाल, कानूनी तिकड़मबाजी से टल सकती हैं फांसी की सजा
January 30, 2020 • Geeta Bisht & Dr. Naresh Kumar Choubey • crime

 

एल.एस.न्यूज नेटवर्क नई दिल्ली। निर्भया गैंगरेप और हत्या के केस में चारों दोषियों को फांसी की सजा की तय तारीख एक फरवरी हैं लेकिन निर्भया केस में दोषियों के वकील तिकड़मबाजी कर दी है जिसकी वजह से एक बार फिर निर्भया के दोषियों की फांसी की सजा टल सकती हैं। मौत की सजा का सामना कर रहे दोषियों के वकील ने कहा कि कुछ विकल्पों का इस्तेमाल नहीं किया है। अब दोषी अपने फांसी की सजा से बचने के लिए एक-एक कर कानूनी विकल्पों का इस्तेमाल करना चाहते हैं। निर्भया सामूहिक बलात्कार एवं हत्या के मामले में मौत की सजा का सामना कर रहे दोषियों के वकील ने, एक फरवरी को तय उनकी फांसी पर स्थगन की मांग के साथ बृहस्पतिवार का रुख किया। वकील का कहना है कि कुछ दोषियों ने अभी कानूनी विकल्पों का इस्तेमाल नहीं किया है।

यह याचिका विशेष न्यायाधीश ए के जैन के सामने आई जिन्होंने कहा सुनवाई होगी। वकील एपी सिंह ने दलील में दावा किया कि दिल्ली जेल के नियमों के अनुसारए एक ही अपराध के चार दोषियों में से किसी को भी तब तक फांसी नहीं दी जा सकती जब तक कि याचिका सहित अपने सभी कानूनी विकल्पों को समाप्त नहीं कर दिया हो। 2012 निर्भया केस के दोषियों के वकील एपी सिंह ने दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट में याचिका दायर करते हुए फांसी की तारीख पर रोक लगाने की मांग की, जो 1 फरवरी है। पर दिल्ली की अदालत ने कहा कि एक फरवरी को तय फांसी पर रोक लगाने की मांग कर रही याचिका पर वह दोपहर बाद सुनवाई करेगी। आज दोपहर में कोर्ट तय करेगी कि निर्भया मामले में दोषियों को एक फरवरी को फांसी होगी या नहींगौरतलब है कि पैरा मेडिकल की 23 वर्षीय छात्रा से 16-17 दिसंबर 2012 की मध्यरात्रि को छह लोगों ने चलती बस में सामूहिक दुष्कर्म किया था और उसे सड़क पर फेंक दिया सिंगापुर ले जाया गया था जहां 29 दिसंबर को उसकी मौत हो गई थी।