ALL political social Entertainment health tourism crime religious Sports National Other State
कोविड यौद्धाओं के लंबित वेतन का तत्काल भुगतान करने की मांग करते हुए मुख्यमंत्री निवास तक “न्याय मार्च“
August 7, 2020 • Geeta Bisht & Dr. Naresh Kumar Choubey • political

कोविड यौद्धा दिल्ली सरकार और एमसीडी के आंखकान और अंग हैंऔर सरकारों को सुचारू रूप से चलाने के लिए कोविड यौद्धओं के साथ मानवीय रूप से व्यवहार किया जाना चाहिए - शक्ति सिंह गोहिल।

कोरोना यौद्धाओं के लिए अरविंद सरकार द्वारा घोषित करोड़ रुपये की प्रोत्साहन राशिजो ड्यूटी पर रहते हुए वायरस के शिकार होते हैं - यह राशि निगम के 20 से अधिक सफाई कर्मचारियों को भी दी जानी चाहिएक्योंकि कोविड के दौरान ड्यूटी करते हुए इनकी मौत हुई है- चौअनिल कुमार।

नई दिल्ली, 07 अगस्त, 2020 - दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष चौ0 अनिल कुमार के नेतृत्व में आज दिल्ली नगर निगम और दिल्ली सरकार के कर्मचारियों के रुके हुए वेतन को तुरंत प्रभाव से दिलाने और कोविड-19 महामारी में कार्यरत कर्मचारियों को कोरोना यौद्धा सम्मान दिलाने के लिए बड़ी संख्या में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने न्याय मार्च मुख्यमंत्री निवास तक किया और वहां पर जोरदार प्रदर्शन किया और कर्मचारियों की मांगों को लेकर एक ज्ञापन भी सौंपा।

कांग्रेस कार्यकर्ता चौ0 अनिल चौधरी के नेतृत्व में मुख्यमंत्री निवास पर जाने से पहले चंदगीराम अखाड़े, ट्रोमा सेन्टर पर एकत्रित हुए। कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने हाथों में नारे लिखे प्लेकार्ड भी लिए हुए थे और ‘‘दिल्ली नगर निगम कर्मचारियों को शोषण, नही सहेंगे-नही सहेंगे’’, ‘‘दिल्ली एमसीडी में पक्की हो नौकरी सरकारी-खत्म हो ठेकेदारी’’, ‘‘बातों में दिखावा है, अरविन्द छलावा है’’ आदि नारे लगा रहे थे।

न्याय मार्च में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष चौ0 अनिल कुमार के साथ अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के दिल्ली प्रभारी श्री शक्ति सिन्ह गोहिल, प्रदेश उपाध्यक्ष श्री जय किशन, श्री अभिषेक दत्त, सुश्री शिवानी चोपड़ा, श्री मुदित अग्रवाल, श्री अली मेंहदी, पूर्व मंत्री दि0स0 डा0 नरेन्द्र नाथ,  निगम में कांग्रेस दल के नेता श्री मुकेश गोयल और कु0 रिंकू, पूर्व विधायक श्री अमरीश सिंह गौतम, वीर सिंह धींगान, चरण सिंह कंडेरा, चौ0 मतीन अहमद, और भीष्म शर्मा, श्री संदीप गोस्वामी, श्री परवेज आलम सहित जिला अध्यक्ष मौहम्मद उस्मान, राजेश चौहान शिवराम सिंह, एस.सी. विभाग के चैयरमेन श्री सुनील कुमार, टोनी सूद, सत्यवान, रामकुमार बिडलान, राजकुमार कर्मपुरा, राजेन्द्र मेवाती, राम मेहर छवि, संजय टांक, विनोद तिहाड़ा, जयपाल चंदेल, बाली भगत, जे.पी. सिंह, भी शामिल थे।

अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के दिल्ली प्रभारी श्री शक्ति सिन्ह गोहिल ने कहा कि कोरोना यौद्धा जैसे स्वच्छता कर्मचारी, डाक्टर, नर्से, सिविल डिफेंस तथा अन्य सभी दिल्ली सरकार और दिल्ली नगर निगम के ऑख, कान व अन्य अंग है, इनके द्वारा ही सरकारी व्यवस्था को सुचारु रुप से चलाने और कोविड-19 महामारी के खिलाफ लड़ाई में सफलता मिल सकती। श्री गोहिल ने कहा कि कर्मचारियों को वेतन और अन्य भत्तें देकर उन्हें प्रोत्साहित करना चाहिए और उन्हें कोविड-19 के खिलाफ एकजुट लड़ाई के लिए उत्साहपूर्वक कार्य करने सक्षम बनाऐं। कोविड-19 से लाखों लोग बर्बाद हो चुके है, नौकरी की कमी के कारण अजीविका के अन्य स्रोतों की भी भारी कमी है।

चौ0 अनिल कुमार ने कहा कि  कोविड-19 महामारी के कारण भय और संकट झेल रहे दिल्ली सरकार व दिल्ली नगर निगम के कर्मचारी अपनी जिम्मेदारियों को कर्तव्यपूर्ण निर्वाह कर रहे है और सैकड़ों कर्मचारी कोरोना पाजिटिव भी हुए है तथा निगम के लगभग 20 अधिक सफाई कर्मचारियों की कोरोना के चलते ड्यूटी पर मृत्यु भी हो गई। उन्होंने कहा अन्य कोरोना यौद्धाओं की भांति कोविड-19 के तहत ड्यूटी कर रहे निगम कर्मचारियों को कोरोना यौद्धाआें का सम्मान दिया जाना चाहिए और निगम के मृतक कर्मचारियों के आश्रितों को एक-एक करोड़ रुपये का मुआवजा दिया जाना चाहिए, परिवार के एक व्यक्ति को अनुकम्पा के आधार पर नौकरी भी दी जानी चाहिए।  ज्ञातव्य है कि मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने कोरोना यौद्धाओं की मृत्यु होने पर उन्हें एक करोड़ रुपये मुआवजे की घोषणा की थी।

चौ0 अनिल कुमार ने मांग की कि दिल्ली सरकार और दिल्ली नगर निगम के अन्तर्गत काम करने वाले सफाई कर्मचारियों, माली, गार्ड, डी.बी.सी. चैकर, शिक्षक, नर्स, सिविल डिफेंस, मार्शल को रुका हुआ वेतन तुरंत दिलवाया जाए और दिल्ली सरकार के अनुदान से चलने वाले 12 कॉलेजों के अध्यापक एवं चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारियों को तुरंत प्रभाव से रुका हुआ वेतन दिया जाये। दिल्ली नगर निगम के कर्मचारियों की सीनियोरिटी के लिए उनकी नियुक्ति की तारीख 2013 की बजाय 2004 से तय की जाए तथा कर्मचारियों को 9 साल का एरियर तत्काल भुगतान किया जाये।

चौ0 अनिल कुमार ने कहा कि दिल्ली सरकार और दिल्ली नगर निगम में लगभग 20 साल से दैनिक भत्ते पर काम करने वाले सफाई कर्मचारियों, अस्थायी रुप में काम करने वाले होम गार्ड, माली, सिविल डिफेंस, मार्शल को नियमित किया जाए। ठेके पर काम करने वाले कर्मचारियों को ठेकेदारी प्रथा समाप्त करके उन्हें स्थाई कर्मचारी के रुप में नियुक्त किया जाए। चौ0 अनिल कुमार ने कहा कोरोना काल में दिल्ली की बदहाली और सफाई कर्मचारियों की कमी को पूरी करने के लिए नई भर्ती भी की जाना चाहिए।

चौ0 अनिल कुमार ने कहा कि दिल्ली नगर निगम के सेवानिवृत कर्मचारियों को मिलने वाली राशि को तुरंत दिया जाए। कोरोना यौद्धाओं की भांति मिलने वाले एमरजेन्सी भत्ते की तरह निगमों के सफाई एवं अन्य कर्मचारियों को भी भत्ता दिया जाए। सभी कर्मचारियों को मेडिकल सुविधाओं के साथ कैशलेस कार्ड की सुविधा भी मिलनी चाहिए।