ALL political social Entertainment health tourism crime religious Sports National Other State
असुरक्षित यौन संबंधों के कारण फैलता है हपीस, बीमारी होने पर नजर आते हैं यह लक्षण
January 31, 2020 • Geeta Bisht & Dr. Naresh Kumar Choubey • health

एल.एस.न्यूज नेटवर्क,

असुरक्षित यौन संबंध अपने साथ कई तरह की स्वास्थ्य समस्याएं लेकर आते हैं। आमतौर पर लोग मानते हैं कि असुरक्षित यौन संबंधों के कारण व्यक्ति को एड्स हो सकता है। लेकिन हौस भी एक ऐसी ही बीमारी है, जो असुरक्षित यौन संबंधों के कारण फैलती है। यह समस्या होने पर व्यक्ति के प्राइवेट पार्ट से लेकर शरीर के अन्य हिस्सों पर पानी भरे दाने निकल आते हैं। धीरे-धीरे यह थोड़े बड़े होते जाते हैं और फिर फूट जाते हैं। जब यह पानी शरीर के अन्य भागों पर फैलता है तो इससे शरीर के अन्य हिस्सों पर भी वह दाने हो जाते हैं। हपीस की समस्या होने पर इस इंफेक्शन को पूरी तरह से खत्म नहीं किया जा सकता।

इसके लक्षण बार-बार उभरते हैं और उस समय के केवल उसका इलाज किया जा सकता है। यह समस्या होने पर दानों के अलावा भी कई लक्षण नजर आते हैं।

तो चलिए जानते हैं इन लक्षणों के बारे में पानी के दाने हीस का सबसे पहला और मुख्य लक्षण है दाने निकलना। आमतौर पर लोग इन्हें एलर्जी समझकर अनदेखा कर देते हैं। लेकिन हपीस होने पर दानों में पानी होता है। यह दाने प्राइवेट पार्ट सहित शरीर के कई हिस्सों पर हो सकते हैं। यह हर दिन साइज में बढ़ते ही जाते हैं।

खुजली का अहसास

जब व्यक्ति को हीस की समस्या होती है तो दानों के साथ-साथ व्यक्ति को काफी खुजली भी होती है। हपीस के सबसे आम लक्षण आपकी योनि, योनी, गर्भाशय ग्रीवा, लिंग, बट, गुदा या आपकी जांघों के अंदर खुजली या दर्दनाक फफोले का एक समूह है।

होता है दर्द

हीस होने पर होने वाले दाने दर्दरहित नहीं होते। मूत्रत्याग करते समय जब पेशाब घावों को छूता है तो इससे काफी जलन व दर्द का अहसास होता है। साथ ही व्यक्ति को जननांगों के आसपास भी दर्द होता है। कई बार व्यक्ति को दानों के निकलने से पहले ही व्यक्ति को दर्द होना शुरू हो जाता है। इसके अलावा इस रोग के कारण व्यक्ति को पूरे शरीर में दर्द का अहसास होता है। ऐसा व्यक्ति अमूमन जोड़ों में दर्द, सिरदर्द व थकान की शिकायत करता है। अन्य लक्षण अगर हपीस एसएसवी-2 के कारण होता है, तो रोगी को फ्लू जैसे लक्षण भी नजर आ सकते हैं, जैसे- श्रोणि क्षेत्र, गले व अंडरआर्स के नीचे सूजन ग्रंथियां, बुखार, ठंड लगना आदि।

रखें इसका ध्यान

हीस के लक्षण आते हैं और चले जाते हैं। लेकिन इसका अर्थ यह नहीं है कि हीस का संक्रमण दूर हो गया। जब व्यक्ति को एक बार हीस हो जाता है तो यह ताउम्र आपके शरीर में रहता है और इसलिए आपसे इसे दूसरों को फैलने की संभावना बनी रहती है। महज 5 साल की बच्ची से दो लोगों ने सामूहिक दुष्कर्म किया था। बच्ची को इलाज के लिए एम्स में भर्ती कराया गया था। इलाज के दौरान बच्ची के शरीर से मोमबत्ती और कांच की शीशी निकली थी।